English Hindi October 21, 2020

राष्ट्रीय

रिहा होने के बाद बोलीं महबूबा- दिल पर वार करता रहा काले दिन का काला फैसला

October 14, 2020 11:29 AM

जम्मू , 14 Oct 2020

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती 14 महीनों बाद रिहा हो गई हैं. जम्मू-कश्मीर सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने मंगलवार को यह जानकारी दी थी. उन्होंने बताया था कि पूर्व CM महबूबा मुफ्ती को रिहा किया जा रहा है. मुफ्ती को पिछले साल 4 अगस्त को उस समय नजरबंद कर दिया गया था, जब केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो भागों में बांटने के साथ ही उसका विशेष दर्जा छीन लिया था.

रिहा होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती महबूबा ने कहा-मैं एक साल से भी ज्यादा अरसे बाद रिहा हुई हूं। पांच अगस्त के काले दिन का काला फैसला हर पल मेरे दिल और रूह पर वार करता रहा। यही कैफियत जम्मू-कश्मीर के तमाम लोगों की रही होगी। कोई भी शख्स उस दिन की डाकाजनी और बेइज्जती को कतई भूल नहीं सकता।  सभी को इरादा करना होगा कि जो दिल्ली दरबार ने पांच अगस्त को गैर आईनी, गैर जम्हूरी, गैर कानूनी तरीके से हमसे छीन लिया, उसे वापस लेना होगा। उसके साथ-साथ कश्मीर मसला, जिसके लिए हजारों लोगों ने अपनी जानें न्योछावर कीं, उसको हल करने के लिए जद्दोजहद जारी रखनी होगी। ये राह कतई आसान नहीं है, लेकिन इसके लिए जद्दोजहद जारी रखनी होगी, मैं चाहती हूं कि तमाम जेलों में बंद लोगों को भी अब रिहा किया जाए। 
 

Have something to say? Post your comment

राष्ट्रीय

पिछले 24 घंटे में सामने आए 46791 नए मामले

कोरोना वायरस के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट, एक दिन में सामने आए 55722 नए मामले

कोरोना के दैनिक संक्रमितों की संख्या में गिरावट जारी, आज सामने आए 61871 नए मामले

24 घंटे में सामने आए 63371 नए कोरोना मामले

मुख्यमंत्री द्वारा दिल्ली के प्रदूषण और पराली जलाने की कड़ी सम्बन्धी नये आंकड़ों का स्वागत

कोरोना के मामलों में फिर बढ़ोतरी, 24 घंटे में 67708 नए मामले, मौतों में आज गिरावट, 680 लोगों की मौत

एआईकेएससीसी घटक समेत पंजाब के किसान संगठनों ने कृषि सचिव के साथ बैठक का बहिष्कार किया

पिछले 24 घंटों में 63,509 नए कोविड-19 के मरीज सामने आए, 730 मरीजों की मौत हुई

मनप्रीत ने जीएसटी काउंसिल से कहा कि विवादों के लिए सही तरीके से एक तंत्र स्थापित करे

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा की गाड़ी को तोड़ने की घटना किसान आंदोलन को भटकाने की कोशिश: पुरुषोत्तम शर्मा