English Hindi October 22, 2020

पंजाब

बादल-कैप्टन दोनों एक योजना के अंतर्गत कर रहे हैं एक-दूसरे के खिलाफ बयानबाजी -हरपाल सिंह चीमा

October 13, 2020 05:37 PM

चंडीगड़, 13 अक्तूबर 2020
पंजाब के किसानों, मजदूरों और आढ़तिया के हक में खड़े होते आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के सीनियर नेता और नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा और विधायक अमन अरोड़ा ने किसान विरोधी सुखबीर बादल की ओर से मुख्य मंत्री को विधान सभा का सत्र 7 दिनों में बुलाने या फिर सीएम की कोठी का घेराव करने का दिए गए अल्टीमेटम को ड्रामा करार देते कहा कि पंजाब को बर्बाद करने वाले बादल और कैप्टन एक योजना के अंतर्गत किसानों समेत पंजाब के हर वर्ग के साथ वोट बैंक की गंदी राजनीति कर रहे हैं।
पार्टी हैडक्वाटर से जारी संयुक्त बयान के द्वारा हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि बादल परिवार ऐसे हाथ कंडे अपना कर प्रदेश में अपनी खो चुकी राजनैतिक जमीन को ढूंढ रही है। जिस में यह कभी भी कामयाब नहीं हो सकते, क्योंकि पंजाब के किसानों समेत हर वर्ग के लोग बादल परिवार की सभी घटीया चालों को भलीभांत जान चुके हैं। चीमा ने कहा कि बादल परिवार ने हमेशा प्रदेश के किसानों, दलितों और व्यापारियों के हितों की कुर्बानी दे कर अपने निजी हितों को पहल दी है।
हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि शिरोमणी अकाली और कांग्रेस ने किसानों के संघर्ष को तारपीडो करने के मकसद से रैलियां की, शंभू बार्डर पर नारे लगवा कर ड्रामेबाजी की, परंतु अफसोस ऐसी ड्रामेबाजियां करने के बावजूद जब पंजाब के किसानों का संघर्ष एकजुट जारी है तो अब सुखबीर और कैप्टन एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करने पर उतर आए हैं।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मोदी सरकार इन तीन घातक अध्यादेशों के द्वारा बड़ी प्राईवेट कंपनियों और अम्बानियों -अडानियों का पंजाब-हरियाणा के खेतों और मंडियों पर कब्जा कराना चाहते हैं। जब कॉर्पोरेट घरानों की पंजाब में ‘एंट्री’ हो गई तो मक्का, गन्ने और दालों की तरह गेहूं और धान का कम से कम समर्थन मूल्य (एमएसपी) निरर्थक हो जाएगा और पंजाब के किसान कौडिय़ों के दाम फसलें बेचने और भुगतान के लिए महीने साल ठोकरें खाने के लिए मजबूर हो जाएंगे।
अमन अरोड़ा ने कहा कि शिरोमणी अकाली दल अब भी भाजपा की कठपुतली बनी हुई है, क्योंकि सुखबीर बादल ने पंजाब में ड्रामेबाजी करते हुए जो भी रैलियां की हैं, बादल ने रैली संबोधन में एक बार भी नरिन्दर मोदी या भाजपा के खिलाफ एक शब्द भी नहीं कहा, जिस से स्पष्ट है कि बादलों की जोड़ी का अंदर खाते अभी भी गठजोड जारी है।
अमन अरोड़ा ने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह और सुखबीर सिंह बादल एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करके नरिन्दर मोदी को बचा रहे हैं और दोनों पार्टियां चाहती हैं कि यह किसान विरोधी काले कानून पंजाब में लागू हों, क्योंकि कैप्टन-बादल-मोदी की तारें कॉर्पोरेट घरानों के साथ जुड़ी हुई हैं।
अरोड़ा ने कहा कि सुखबीर बादल आज कौन से मुंह के साथ पंजाब के किसान विरोधी अध्यादेशों की हिमायत कर रहे है। अकाली दल और बादल परिवार ने तो सारी उम्र प्रदेश को अधिक अधिकार और अपने आप को किसान हितैषी होने के दावों के साथ राजनैतिक रोटियां ही सेकी हैं।

Have something to say? Post your comment

पंजाब

पंजाब विधानसभा में पास बिलों पर सुखबीर द्वारा साधी चुप्पी के पीछे कोई बड़ी साजि़श: सुनील जाखड़

एम.एस.पी पर फसलों की निश्चित रूप से खरीद वाले कानून से क्यों भाग रही है अमरिन्दर सरकार?- भगवंत मान

स्पीकर के विरुद्ध नहीं इस्तेमाल की भद्दी शब्दावली - हरपाल सिंह चीमा

पंजाब राज्य सहकारी कृषि विकास बैंक द्वारा किसानों का दंडित ब्याज माफ करने का फ़ैसला: रंधावा

बीबी जागीर कौर द्वारा स्त्री विंग, स्त्री अकाली दल की उपाध्यक्षों की घोषणा

मुख्यमंत्री द्वारा विपक्ष की ओर से मंत्रियों को निशाना बनाए जाने की आलोचना, रुझान को बताया शर्मनाक

आबकारी विभाग द्वारा अवैध शराब के कारोबार को रोकने के लिए ऑपरेशन रैड रोज़ की शुरूआत

अकालियों और आप के दोगले किरदार से हैरान हूँ - कैप्टन अमरिन्दर सिंह

सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने विधानसभा में लाए गए कृषि बिलों पर बहस के दौरान केंद्र सरकार को लगाई लताड़

आपनी किसानी बचाने के लिए एकजुट हुआ पंजाब