English Hindi October 22, 2020

राष्ट्रीय

युवा संगठनों और आंदोलन प्रतिनिधियों ने आयोजित किया 'युवा संसद'

September 14, 2020 06:56 PM

• रोज़गार को मौलिक अधिकार बनाने के सवाल पर हुई चर्चा का 'युवा हल्ला बोल' के फेसबुक पेज से हुआ प्रसारण

Parshotam Balli
Barnala, 14 September
आज से शुरू हुए मानसून सत्र में देश भर के तमाम मुद्दों पर चर्चा होना है, ऐसे में देश भर के तमाम युवा संगठनों ने आज एक वर्चुअल 'युवा संसद' का आयोजन किया। जिसमें बेरोज़गारी के खिलाफ चल रहे विभिन्न आंदोलनों और युवा संगठनों के प्रतिनिधियों ने अपनी बात रखी।
'युवा हल्ला बोल' के फेसबुक पेज पर आयोजित इस वर्चुअल 'युवा संसद' में रोज़गार को मौलिक अधिकार बनाने के सवाल पर चर्चा हुई। साथ ही, वर्तमान में बेरोज़गारी के खिलाफ चल रहे अभियान के आगे की दिशा और भी संवाद हुआ।
इस मौके पर 'युवा हल्ला बोल' के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर गोविन्द मिश्रा ने बताया कि बढ़ती बेरोज़गारी के मुद्दे पर सरकार बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। ऐसे में सरकार को उन्हीं की भाषा में समझाने के लिए बेरोज़गार युवा अलग अलग तरीके अपना रहे हैं। पहले ताली-थाली बजाकर सरकार को जगाया, फिर दिया जला कर युवा एकजुटता दिखाई और अब 17 सितंबर को जुमला दिवस मना कर सरकार को अपना संदेश देंगे। इसी के तहत आज यानी 14 सितंबर को 'युवा संसद' आयोजित कर मूल समस्या के समाधान को सरकार तक पहुचाने की कोशिश की गई है।
इस आयोजन में हिस्सा लेने आये पूर्व जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा कि 'यह सरकार एक तरफ महामारी में लोगों से नौकरियां छीन रही है और दूसरी तरफ भर्तियों पर रोक लगाए बैठी है। यंग इंडिया यह आवाज संसद से सड़क तक उठाने में अपना पूरा योगदान देगा और युवा एकता इस सरकार को रोजगार को अधिकार बनाने के लिए नीति बद्ध तरीके से मजबूर करेगा। अगर सरकार ऐसा नहीं करती है तो फिर युवा आने वाले चुनावों में इस सरकार को कान पकड़कर गद्दी से उतार देगी।'
युवा मंच के राजेश सचान ने कहा कि 'देश के बेरोजगार युवा अभी एक हो चुके हैं और जिस तरीके से उन्होंने पीछे के दिनों में अपनी आवाज को बुलंद किया है आगे भी सरकारों को जगाने के लिए पुरजोर कोशिश करेगा। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से यह अनुरोध किया कि यह आज के समय का एक महत्वपूर्ण सवाल है और सबको मिलजुल कर सरकार को लामबंद करना होगा कि वह युवाओं को रोजगार दे और अपने किए वादों को पूरा करें।'
वर्कर्स फ्रंट के अध्यक्ष दिनकर कपूर जी ने कहा कि रोज़गार पाना युवाओं का अधिकार है यह गांधी के सपने का भारत होगा जब रोज़गार एक संवैधानिक अधिकार बने और सभी युवाओं को न्याय पूर्वक रोज़गार मिले।
इनके अलावा यूपी में महिला हेल्पलाइन 181 के लिए काम करने वाले महिला समूह, महाराष्ट्र पीएससी के अभ्यर्थियों का समूह समेत 20 से अधिक समूहों का प्रतिनिधित्व इस आयोजन में हुआ।
इस आयोजन में समापन भाषण देते हुए 'युवा हल्ला बोल' के राष्ट्रीय संयोजक अनुपम ने बताया कि किस तरीके से सरकार के 2 करोड़ सालाना नौकरी देने की बात जुमला बनकर रह गया। किस तरीके से सरकारी और गैर सरकारी प्रतिष्ठित संस्थानों को यह सरकार बर्बाद कर रही है। युवा आंदोलन को भारत की राजनीति का भविष्य बताते हुए उन्होंने कहा के युवा अब हर तरीके से अपनी मुखालफत दर्ज कराएगा और हर संभव प्रयास करके रोजगार का अधिकार लेकर रहेगा। उन्होंने कहा कि रोज़गार के अवसरों में लगातार की जा रही कमी और सरकार रोक लगाए और खाली पड़े पदों को तुरंत भरे। साथ ही, जिस तरह चुनाव कराने के लिए एक मॉडल कोड है उसी तरह भर्ती परीक्षाओं के लिए भी एक मॉडल कोड की आवश्यकता है जो सरकारों को जवाबदेह बनाएगी और युवाओं का भविष्य सुनहरा होगा। यह मॉडल कोड ये भी सुनिश्चित करेगा कि कोई भी भर्ती प्रक्रिया अधिकतम 9 महीने में पूरी हो।

Have something to say? Post your comment

राष्ट्रीय

एक दिन में सामने आए 55838 नए मामले, संक्रमण से उबरने वालों की संख्या 68 लाख के पार

पिछले 24 घंटे में सामने आए 46791 नए मामले

कोरोना वायरस के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट, एक दिन में सामने आए 55722 नए मामले

कोरोना के दैनिक संक्रमितों की संख्या में गिरावट जारी, आज सामने आए 61871 नए मामले

24 घंटे में सामने आए 63371 नए कोरोना मामले

मुख्यमंत्री द्वारा दिल्ली के प्रदूषण और पराली जलाने की कड़ी सम्बन्धी नये आंकड़ों का स्वागत

कोरोना के मामलों में फिर बढ़ोतरी, 24 घंटे में 67708 नए मामले, मौतों में आज गिरावट, 680 लोगों की मौत

एआईकेएससीसी घटक समेत पंजाब के किसान संगठनों ने कृषि सचिव के साथ बैठक का बहिष्कार किया

रिहा होने के बाद बोलीं महबूबा- दिल पर वार करता रहा काले दिन का काला फैसला

पिछले 24 घंटों में 63,509 नए कोविड-19 के मरीज सामने आए, 730 मरीजों की मौत हुई